मंगलवार, 7 जून 2016

अदरक नस नाड़ियो को स्वच्छ कर पुरुषो के मर्दानी ताकत को बढ़ाता है ।अदरक में पुंसत्व की शक्ति होती है । अदरक ( आदी ) नामर्दो को मर्द बनाती है ।

अदरक नस नाड़ियो को स्वच्छ कर पुरुषो के मर्दानी ताकत को बढ़ाता है ।अदरक में पुंसत्व की शक्ति होती है । अदरक ( आदी ) नामर्दो को मर्द बनाती है ।

        अदरक का जन्म धरती की गर्मी में एक जड़ के रूप में होता है ।लेकिन यह मानव जीवन को प्राण वायु देती है ।इसकी जड़ में ऐसी अदभुत शक्ति होती है जो सैकड़ो रोगों को पछाड़ कर मानव शरीर में ऊर्जा प्रदान कर देती है । इसके सेवन से यह छाती में जमे हुए कफो को निकाल कर यह नसों को धो देती है ।यह सांसो से दुर्गन्ध को निकाल देती है । यह नस नाड़ियों में जमे श्लेष्मा को निकालकर साफ़ कर देती है ।इस प्रकार अदरक एक ओर शरीर में प्राण वायु का संचार करती है तो दूसरी ओर अशुद्द वायु को धक्के देकर बाहर कर देती है । इसके साथ ही अदरक के सेवन से पुरुषो में सांड की तरह शक्ति आजाती है ।आजकल पौरुष बल बढ़ाने के सैकड़ो दवाये चल गयी है ।डाक्टर , बैध , हकीम लोगो को मर्दानी ताकत बढ़ाने के नाम पर खूब ठगाई करते है ।नासमझ व्यक्ति इनके चंगुल में फस कर धन के साथ साथ अपने प्राकृतिक पौरुष बल को भी खो देते है ।ऐसे लोगो को अदरक का प्रयोग करनी चाहिए इसे उनका पौरुष बल सौ गुना बढ़ जायेगा ।इस प्रकार अदरक नामर्दो को मर्द बनाती है ।अदरक जिगर के खराबी को ठीक कर उसे शक्तिशाली बनाती है ।यह रक्त की सफाई कर देती है । यही शुद्ध रक्त जब यौननेंद्रियों में जाई है तो मनुष्य का मर्दानी ताकत किलकारी मारकर कूदने लगता है ।चरक ने लिखा है क़ि अदरक में सांड की तरह शक्ति होती है । अतः हमे इसकी शक्ति को पहचाननी चाहिए ।
   प्राचीन आयुर्वेद शास्त्रियों ने अदरक को बलवर्द्धक बताया है ।यूरोप में प्रतिवर्ष भारत से ही हजारो टन अदरक जाता है ।यूरोपवासी इसे इंडियन जिंजर कहते है ।वे लोग इसका प्रयोग प्रयोग टॉनिक या स्वास्थ्यवर्धक औषधि के रूप में करते है । इसके खाने से मनुष्य का वदन गठीला और ताकतवर बनजाता है जिसे मनुष्यो में अपने आप पौरुष बल बढ़ जाता है ।पुरुषार्थी वह होता है जो साहस के साथ कठिनाइयों को जीतते हुए आगे बढ़ता है ।अदरक व्यक्ति को एसे ही जीवन जीने की शक्ति स्फूर्ति प्रदान करती है । आज इसका महत्व सारा संसार में है ।शरू में यूरोप और अफ़्रीकी देशो में इसके प्रयोग सिर्फ पौरुषबल बढ़ाने के रूप में किया जाता था पर अब धीरे - धीरे इसके अन्य उपयोगो से भी वे परिचित हो गए । आज थोड़ी बहुत अदरक सभी देशो में पैदा होती है । इससे अनेको मूल्यवान दवाइयाँ भी बनने लगे है ।पता नही अदरक के खाने से हम मुँह क्यों बिचकाते है ?
   प्रयोग बिधि - इसका सेवन चटनी , आचार या सब्जी में किसी भी तरह करे यह फायदा ही पहुचाता है ।
  रात्रि को सोते समय एक चम्मच सोंठ अदरक दो , पिसी हुई लवंग और थोड़ी सी मिश्री को खा कर ऊपर से एक ग्लास दूध पिले । इसे नामर्दी दूर हो जाती है ।

   

प्रतिक्रियाएँ:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें