मंगलवार, 1 मार्च 2016

गोखरू ( small caltrap ) , नामर्दी , पथरी , हिर्दय रोग , खांसी , रक्त - पित को नष्ट कर देता है ।



गोखरू ( small caltrap ) नामर्दी , पथरी , हिर्दय रोग , खांसी , रक्त - पित को नष्ट कर देता है ।

यह पूरे भारत में पाया जाता है ।गोखरू ऊसर जमीन पर अपने आप उगने वाला पौधा है ।गोखरू को संस्कृत में - गोक्षुर , हिंदी में - गोखरू , मराठी में - सराठे , तेलगु में - पात्तेरुमुल्लु , तमिल में - नेरनजी , लैटिन में - ट्रिबुल्स टेरेस्ट्रिस कहते है । गोखरू के पौधे चने के पौधे की तरह दीखता है । इसकी टहनी और तना सफेद रोमो से युक्त होता है ।इसकी जड़े 5-6 इंच लम्बे , इसकी पत्तिया 3 इंच तक लम्बी होती है ।इसके फूल जादी में होती है जो पांच पंखुड़ी वाली हल्के पिले रंग के होते है ।जिसमे छोटे छोटे कांटे होते है ।गोखरू के फल में पांच कोष्ठ होते है इसमें अनेक बिज होते है । गोखरू स्वाद में मीठा , भारी , अनुमोलन , रसायनिक और शीतल होता है । यह बलबर्द्धक , वाट - पितनाशक , और आमाशय को बल देने वाला होता है । यह प्रमेह , नामर्दी , पथरी , दाह , ह्रदय - रोग , आदि को नष्ट कर देता है ।

 इसके प्रमुख लाभ :- 


 ( 1 ) गोखरू के 3 से 4 ग्राम चूर्ण को शहद में मिलाकर सुबह शाम चाटे और ऊपर से एक छोटी ग्लास भेड़ के दूध पीले । इस तरह सात आठ दिनों में पथरी गल कर निकल जायेगी । दूसरी विधि एक लीटर पानी में 50 ग्राम गोखरू को मोटा कूट कर उबाले जब आधा रह जाए टी इसमें 50 ग्राम मिश्री और 10 ग्राम यवक्षार की मिला कर उसका कुल चार मात्रा बनाले और उसे सुबह दोपहर शाम और रात को दे ।इस तरह कुछ दिनों के प्रयोग से पथरी गल कर निकल जायेगी ।

 ( 2 )सुजाक के जलन में :- गोखरू के हरे पत्ते 10 ग्राम , ककड़ी के बिज 6 ग्राम और काली मिर्च 2 ग्राम इन सब को घोट कर पिने से सुजाक के कारण होने वाली जलन ठीक हो जाती है ।

( 3 ) स्वप्नदोष में :- 50 ग्राम गोखरू के फल को सुखा ले ।फिर 50 ग्राम मिश्री के साथ पीस कर सुबह शसम 3 से 4 ग्राम की मात्र में ले ।स्वप्नदोष ठीक ही जाएगा ।    
( 4 ) पुरुषो में सेक्स पावर को बढ़ाने एवं बल वीर्य - बृद्धि के लिए - (a) 50 ग्राम गोखरू के चूर्ण , 50 ग्राम शनतावर के चूर्ण को कूट कर 250 मिली दूध और 250 ग्राम पानी में उबाले जब जल कर आधी हो जाए तो उसे आग से उतारकर कपड़े से छान कर शहद या मिश्री के साथ पीयें ।एक से डेढ़ माह में मर्दानी ताकत और बल बीर्य में बृद्धि हो जायेगी ।
प्रतिक्रियाएँ:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें