शुक्रवार, 18 मार्च 2016

नीम के सेवन से हर्निया का नामोनिशान मिट जाती है 

नीम के सेवन से हर्निया का नामोनिशान मिट जाती है 


जिस व्यक्ति का अंडकोष बढ़ जाता है बोल चाल की भाषा में उसे हर्निया कहते है । अंडकोष के बढ़ जाने से बहुत ही तकलीफ होती है । यह रोग अनेक कारणों से होता है ।ज्यादतर यह रोग उन्ही लोगो को होता है जो लोग शरीर से मेहनत कम करते है आराम पसन्द होते है ।ज्यादतर यह रोग सेठ लोगो को होता है ।इसमें आंतो में विस्तार की स्थिति उत्पन्न हो जाती है ।इसे अंडकोष बढ़ने लगते है । इसके बढ़ जाने से असहनीय पीड़ा होता है ।इसके लिए नीम का सेवन करे तो सारा कष्ट दूर हो जाता है ।

प्रयोग विधि :- 

 नीम की पत्ती 25 ग्राम एवं अमरबेल दोनों को गोमूत्र या बकरी के दूध में पीस कर मल्हम बनाले एवं अंडकोष पर लगाये ।एवं भोजन सादा एवं सुपाच्य ले । लाल मिर्च , तेल , खटाई आदि का सेवन न करे ।इसके साथ ही कब्ज बनाने वाली भोज्य पदार्थो को न खाये ।क्योंकि कब्ज से वायु बनता है और इसे आतं को कष्ट होता है ।इस मल्हम के लेप से कुछ ही दिनों में हर्निया ठीक हो जाता है ।

प्रतिक्रियाएँ:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें