गुरुवार, 17 मार्च 2016

पेचिश की बिमारी में नीम का सेवन बहुत ही लाभप्रद होता है

पेचिश की बिमारी में नीम का सेवन बहुत ही लाभप्रद होता है


पुरानी से पुरानी पेचिश की बिमारी नीम के सेवन से ठीक हो जाता है ।
   
          पेचिश की बिमारी में पेट में ऐठन होती है ।ऐठन के साथ साथ ऑव आता है ।पेचिश के रोगियों  को पेट ऐठ कर बार बार दस्त लगती है ।आंतो में दर्द होने लगती है ।रोगी को बार बार दस्त होने से कमजोर हो जाता है उसे बचैनी होने लगती है ।आंते खुश्क हो जाते है ।प्रायः वासी भोजन करने या दूषित पानी पीने से पेचिश की बिमारी होती है ।

 इस बिमारी में निम्नलिखित उपचार करें ।

( 1 ) नीम के सफेद छाल को भून कर कूट कर चूर्ण बनाले ।फिर उस चूर्ण को दही के साथ कुछ दिनों तक सेवन करे । पेचिश ठीक हो जायेगी ।

( 2 ) नीम के पांच निबौली को मठ्ठे के साथ पिले पेचिश तुरन्त ठीक हो जायेगी ।

( 3 ) नीम के फूल को सुखा ले । और लगभग 5 ग्राम फूल को मठ्ठे के साथ सेवन करे । पुरानी से पुरानी पेचिश ठीक हो जायेगी ।
प्रतिक्रियाएँ:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें