बुधवार, 10 फ़रवरी 2016

सौ मर्दों की मर्दानी ताकत बकरे के अंडकोष में


सौ मर्दों की मर्दानी ताकत बकरे के अंडकोष में 


 सुश्रुत संहिता के अनुसार बकरे के अंडकोष में सौ मर्दों की ताकत होती है

आयुर्वेद में ऐसे कई नुस्खे का वर्णन है जिसे मर्दानी ताकतों को बढ़ाया जा सकता है । आयुर्वेद के चरक एवं सुश्रुत संहिता में ऐसे कई नुस्खों का वर्णन है जिसे अपना कर हम स्वस्थ और सौ मर्दानी ताकतों को प्राप्त कर सकते है ।पर हम इसे भूलते जा रहे है और इसके विपरीत दूसरे देश इसे अपनाकर फायदा उठा रहे है और तो और हमारे जड़ी बुटियों का पेटेंट भी करा ले रहे है जैसे तुलसी , निम् , अदरख आदि।और हम मन मसोस कर रह जाते है । मांस में प्रोटीन होता है यह हम सब जानते है और कुछ हद तक हमारे शरीर के लिये फायदेमंद भी है ।आयुर्वेद के चरक और सुश्रुत संहिता में भी इसका विस्तार से वर्णन है और हम यह भी जानते है की इस महान ग्रथ की रचना वैदिक धर्म का पालन करते हुए हुआ है । आज के इस भौतिक युग में मर्दानी ताकत पुरे विश्व के लिये एक बहुत बड़ी समस्या के रुप में खड़ी है । इस समस्या के निदान के लिये बहुत सारे लोग अंग्रेजी दवा खाने को मजबूर है ।जिसके साइड इफेक्ट से ये अनेको रोगों से रोगग्रस्त हो जारहे है । आपको जानकर यह आश्चर्य होगा की हमारे पूर्वजो ने आयुर्वेद में इस समस्या का अनेको नुस्खे है ।जिसे अपनाकर हम सौ मर्दों की ताकत प्राप्त कर चरम सुख की प्राप्ति कर सकते है ।हम लगातार अपनी ताकत खोते जारहे है जबकि विदेशी इस नुस्खे को अपनाकर फायदा उठा रहे है ।

सुश्रुत संहिता के अनुसार बकरे के अंडकोष में सौ मर्दों की ताकत होती है । सुश्रुत संहिता में जानवरों तथा इन्‍सान के वीर्य का विधान भी मिलता है,  आयुर्वेद के सुश्रुत संहिता के अनुसार घी में बकरे के अंडकोष को तल कर सेंध नमक के साथ जो पुरूष खाता है वह एक सौ स्त्रियों से रमण कर सकता है । जो व्यक्ति रोज रोज बकरे के अंडकोष को पकाने और खरीद कर लाने के झंझट से बचना चाहते है ।उनके लिए भी एक रास्ता है। यूनानी मेडिसिन में "जौहर ऐ ख़ुशी " एक दवा का नाम है । यह बकरे के अण्डकोषों का सत ही होता है। आप बाज़ार से इसे ख़रीदकर दूध और शहद के साथ इस्तेमाल करें। आपको वही लाभ मिलेगा, जो कि चरक और सुश्रुत में बताया गया है। आजकल रैक्स कंपनी (Rex (U&A) Remedies Pvt. Ltd.) इसे बना रही है। अपने जीवन साथी को चरमसुख का अहसास कराइये और अपने जीवन को आनंद से भर लीजिए। आसानी से पौरुष बल प्राप्त कर बैबाहिक जीवन का आनन्द ले ।

प्रतिक्रियाएँ:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें